"You haven’t done anything worthwhile until you do something for someone who can’t do anything for you."

Shri Ghewar Chand Kanunga

From the deeply personal to the determinedly professional to the quietly charitable to the compassionately Jodhpuri to the wisely philosophical to the stirringly inspirational to the self-effacingly private life and times of Shri Ghewar Chand Kanunga, this space is an ode and a dedication to a talented, hardworking, and large-hearted man we should all acquaint ourselves better with and take inspiration from for more reasons than one.

Personal

Early Life, Education, Marriage

The journey from the tiny village of Siwana in Rajasthan to Jodhpur over eight decades later has been an eventful one to say the least. Let’s take a trip down memory lane and acquaint ourselves with some of its salient features.

It all began on 22nd February 1936, the date Shri Ghewar Chand Kanunga was born. The first few years were spent in Siwana with the ladies of the house, including mother. Back in the day, the ladies didn’t leave their hometown to go anywhere else. The men were the ones who roamed far and wide in search of economic opportunities. This is something Shri Ghewar Chand Kanunga’s father had to do – because in Siwana and in most of Rajasthan there wasn’t much to do to earn a living, apart from seasonal farming.

In Chennai, Shri Ghewar Chand Kanunga was enrolled in A. G. Jain High School. To begin with, he wasn’t good at studies. He was admitted in school, thanks to his father being an influential person. His teacher even told Shri Ghewar Chand Kanunga this. This only made Shri Ghewar Chand Kanunga more determined to prove himself worthy by becoming a good student and pursue excellence with missionary zeal.

Very early in his life – as a teenager – Shri Ghewar Chand Kanunga felt a deep passion for social work. He made it a point to involve himself in it every time he was presented with an opportunity to do so. In fact, so committed he became to social causes that he made it an integral part of his life and it continues to be so till date.

After completing his matriculation exams, Shri Ghewar Chand Kanunga joined the prestigious Madras Christian College. By then, he was extremely passionate about reading and made it a point to read at least one book per week. One of his fondest memories is of his regular weekly visits to the Adyar Public Library since the age of eight.

Speaking of fears and worries, Shri Ghewar Chand Kanunga feared nothing. He is a great believer in destiny and is certain that one only gets what is in one’s destiny. His parents too believed this. And Shri Ghewar Chand Kanunga saw no reason not to. It has stood him in good stead. He was good at studies. He was frugal, which means he never worried about being cash-strapped. He loved exploring the world around him and learning from it.

Shri Ghewar Chand Kanunga was married at an early age. And of course it was an arranged marriage – back then most marriages were. He married the daughter of one of his father’s business associates. No questions asked. And it worked out fine. Shri Ghewar Chand Kanunga considers himself extremely fortunate to have been blessed with such a supporting partner. He is certain he wouldn’t have been able to achieve even a fraction of all that he has in business and in social work if she hadn’t been stoically and solidly behind him.

Professional

The Entrepreneurial Journey

Born in the year 1936 in the historic city of Siwana in Rajasthan, Shri G. C. Kanunga had his early education in Chennai. After graduating from Jain High School in Chennai in the year 1953, he joined his family trading firm engaged in the sale of goods imported from Europe, Japan and other developed countries.

Shri Ghewar Chand Kanunga never thought of taking up a job. He was born into an entrepreneurial family and didn’t see himself as anything other than a job creator. In fact, more job creator is what he feels a country like India needs.

When queried on why he chose to become an entrepreneur, Shri Ghewar Chand Kanunga says he feels like it’s what he was born to do. An independent thinker who has always wanted to help others lead better lives, he feels being an entrepreneur helps him fulfil his destiny and vision better than working for someone else does.

After gaining valuable experience in development of markets for imported items in the southern states, Shri Ghewar Chand Kanunga went into manufacturing line, first to produce artificial aluminium anodized jewellery in Kolkata before launching an ambitious project in the underdeveloped region of his native state to manufacture hot extruded and cold drawn products out of copper alloys under the name of Alcobex Metals Limited.

Alcobex, which started in a modest way with a capital investment of about Rs. 1 million, has now developed into one of the leading manufacturers of non-ferrous extruded products in the country with a total investment of over Rs. 250 crores and employed more than 1500 workers.

Another valuable contribution to the national economy has been development of ancillary industrial units around Alcobex in particular and helping the development of small and medium industries in Western Rajasthan.

In recognition of his valuable role in industrial development besides his own manufacturing business, Shri Ghewar Chand Kanunga has the rare privilege of being a standing member for the last two decades of with very prestigious State Advisory Committee for Industrial Development.

Furthermore, Shri Ghewar Chand Kanunga is associated with many commercial and social organizations. He was president of Jodhpur Industrial Association, President of Marwar Chamber of Commerce, Member of FICCI, CII, President of Sardar School and Nakoda Parshwanath Commerce college for 12 years, Chairman of Mahaveer Public School and also Badal Chand Sugan Kanwar Choradia Girls School, President of Oswal Singh Sabah and Marwar Akal Sahayta Samiti. He is one of the oldest members of Rotary Club.

For his industrial skill and very valuable social services rendered by him the President of India, Dr. Shankar Dayal Sharma had adorned him with the national award in Rashtrapati Bhawan in Delhi on 12.09.1992

And what is the message the extraordinarily hardworking and extremely self-effacing Shri Ghewar Chand Kanunga has for young entrepreneurs? Just this: If you think of work as worship. God will take care of the rest for you.

Public Service

“I wish I could do more with the life god has given me. But since there’s only so much I can do in one life, I wish to do as much as I can to better other people’s lives so that they see value in helping others and thereby do more with their own life.” This is what Shri Ghewar Chand Kanunga believes is the meaning of life. He firmly believes we are given the gift of life in order to better lives. Perhaps this is what makes him one of the most selfless and admired people in Jodhpur.

His list of good deeds is too long and varied to enumerate in loving detail here. Plus, this is not something Shri Ghewar Chand Kanunga would stand for. Chronicling the good he has done for others is not something Shri Ghewar Chand Kanunga believes in encouraging one bit. He intensely dislikes talking about how he has helped others. But the fact that virtually everyone who knows him or off him admires him is proof enough of the fact that he has touched tens and thousands of lives in so many praiseworthy and profound ways.

From promoting education to saving cattle to saving families and lives that depend on cattle to generating employment for anyone who came to him to deeply and sincerely supporting the differently-abled to leading extensive drought relief in Rajasthan for years to educating women to stand on their own feet and feel emancipated to carrying out small small acts of kindness daily to always lending a helping hand to anyone who turned to Shri Ghewar Chand Kanunga for assistance, Shri Ghewar Chand Kanunga’s record of doing good is consistent, long, continuing, and stellar.

In fact, his definition of public service is very revealing – in his view, put simply, public service is the purpose of life and the process of bettering lives. Even more instructive and inspiring are the reasons Shri Ghewar Chand Kanunga is drawn to helping people. In his experience, the way to find happiness is to help others find happiness. He says people spend all their life running helter-skelter looking for happiness without realising that the path to true happiness is found by sincerely trying to help others smile. The fact that that this is a lesson so simple is what makes it so hard to discover and decipher.

Educating someone can make you happy. Helping someone can make you happy. Making someone else smile can make you happy. Building something that makes others happy can make you happy. The key to your own happiness lies in making others happy is the one simple mantra of public service Shri Ghewar Chand Kanunga would like more people in this world to internalise. This is the true meaning of social reform in Shri Ghewar Chand Kanunga’s eyes and this is the one lesson India needs to learn is the path India needs to take in his opinion.

Love For Jodhpur

The Jodhpuri Heart, Vision for Jodhpur

Why do you care about a place? What makes you emotionally attached to it? Why does Shri Ghewar Chand Kanunga love Jodhpur? These are some of the things we set out to discover.

You care about a place because you feel at home in it. Because it shelters you. Because it inspires you. Because it makes you happy. Because it gives you peace. These are some of the simple but significant reasons cities go from being a mere agglomeration of roads and structures to, in many ways, an extension of self.

This is how Shri Ghewar Chand Kanunga feels about Jodhpur. It is an extension of his dignified and giving self. It is home. It is his happy place. It inspires him. It is his muse. It is his repository of memories. It is where he found himself as a business person. It is what pushed him to explore his charitable side. It is what nurtured his vision for the future. Jodhpur is the jewel he treasures most. It is why Shri Ghewar Chand Kanunga cares so much about Jodhpur and wants it to become an even more glorious than the city it already is.

Shri Ghewar Chand Kanunga doesn’t demand much from life, but he expects more from the people of Jodhpur. He would like them to work towards making it the cleanest city in India. He wants the educational facilities in Jodhpur to reach for the sky. He dreams that the children of Jodhpur will dream big. He envisions a time when Jodhpur will be known as more than just one of the most hospitable place in the world. He sees it as a city that is more than the most favoured destination for the best handicrafts in the world. Put simply, he aspires for it to be among the great cities of the world.

Can you and me help fill his Jodhpuri heart with pride and satisfaction by turning Jodhpur into one of the great cities of the world? We can. We must. And we will. Let’s begin today.

G.C.KANUNGA Says

If you’re looking for either inspiration, wisdom, guidance or all three, look no further. In our conversations with Shri Ghewar Chand Kanunga, we unearthed some pearls of wisdom that we think are worth preserving for posterity. Let Shri Ghewar Chand Kanunga and his words show you the way to go forth and conquer your fears and make your dreams come true. Welcome.

On Parents – Parents are like God. You wouldn’t exist without them.

On Education – The greatest thing about education is not that it teaches you the things you know, but that it teaches you to discover what you don’t know.

On Hard work – Life is never easy for those who aren’t prepared to work hard.

On Children – If you want to be remembered for good, teach your children well.

On Humility – Humility is the ability to think of yourself less without thinking less of yourself.

On Determination – When someone tells me no, it doesn’t mean I can’t do it. It simply means he can’t do it with me.

On India – The beauty of India is that it means different things to different people who all love the meaning of India.

On Politics – Politics is the fine art of keeping everyone happy without playing politics.

On Charity – You haven’t done anything worthwhile until you do something for someone who can’t do anything for you.

Celebrating G.C.Kanunga

Generous, patient, hardworking, and gentle. These are the words that turned up most often when we asked people to tell us how they feel about Shri Ghewar Chand Kanunga.

The people we spoke to were business associates, family members, folks who have worked for Shri Ghewar Chand Kanunga, and many others who have been touched by the little acts of kindness Shri Ghewar Chand Kanunga carries out day in and day for anyone who comes to him.

The abiding impression we came away with is that Shri Ghewar Chand Kanunga doesn’t do things to gain recognition or look good or make a big statement. He helps people as a matter of routine, because he feels that is the purpose of life.

As far as Shri Ghewar Chand Kanunga is concerned, doing good is an integral part of the circle of life. It’s not something extraordinary that needs to be celebrated. This is the thing that’s most inspiring about Shri Ghewar Chand Kanunga and a life lesson that every human being would do well to emulate.

एक परिचय

समाज के लिए प्रेरणा

” आपका जीवन तब तक सार्थक नहीं है जब तक आप किसी ऐसे व्यक्ति के लिए कुछ नहीं करते जो आपके लिए कुछ नहीं कर सकता।”
सेवा के लिए ब्लेंक चेक्स दे देने वाले, असंख्य बच्चों को पढ़ने में आर्थिक एवं मूलभूत सहायता प्रदान करने वाले , मातृभूमि और धर्म के लिए निरन्तर सेवा में रहने वाले अनेक महापुरुष हुए, हैं। लेकिन ये सब करके ज़रा भी न जताने वाले, नेकी कर दरिया में डाल के नितांत अनुयायी समाज मे कम ही मिलते हैं। आज आपको एक ऐसे ही महान , दूरदर्शी और बिरले व्यक्तित्व से मिलवाते हैं।

“आपका जीवन तब तक सार्थक नहीं है जब तक आप किसी ऐसे व्यक्ति के लिए कुछ नहीं करते जो आपके लिए कुछ नहीं कर सकता।”
सेवा के लिए ब्लेंक चेक्स दे देने वाले, असंख्य बच्चों को पढ़ने में आर्थिक एवं मूलभूत सहायता प्रदान करने वाले , मातृभूमि और धर्म के लिए निरन्तर सेवा में रहने वाले अनेक महापुरुष हुए हैं। लेकिन ये सब करके ज़रा भी न जताने वाले, नेकी कर दरिया में डाल के नितांत अनुयायी समाज मे कम ही मिलते हैं। आज आपको एक ऐसे ही महान , दूरदर्शी और बिरले व्यक्तित्व से मिलवाते हैं।

श्री घेवरचन्द कानूंगा के शुरुआती जीवन से जुड़ी कुछ बातें

अरावली की पहाड़ियों के बीच एक छोटा लेकिन सुंदर गांव है गढ़ सिवाना। हिंगलाज माता के इस गांव की धरती ने ग्रेनाइट, बाजरा और जीरा के अलावा इतिहास के कई रत्न भी पैदा किये। सिवाना की ही इस पुण्य धरती पर 22 फरवरी 1936 के दिन  लक्ष्मीचन्द जी कानूंगा के घर घेवर चंद जी कानूंगा का जन्म हुआ। परिवार के लिए  ऊंची आकांक्षाएं और सुंदर जीवन की चाह हर व्यक्ति रखता है। इसी सपने को पूरा करने घेवरचन्द जी कानूंगा  के पिता सिवाना की तंग गलियों से चेन्नई के बड़े शहर को निकल पड़े। वहां उन्होंने अपने परिवार के लिए सम्पन्न और प्रभावशाली जगह बनाई। चेन्नई की AG जैन हाई स्कूल में घेवरचंद जी का दाखिला करवाया गया। मेट्रिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात घेवरचन्द जी ने अपनी योग्यता और विद्वता से प्रतिष्ठित मद्रास क्रिस्चियन कॉलेज में दाखिला लिया। 8 साल की आयु से ही उन्हें किताबें पढ़ने में रुचि हो गयी थी। उनके बचपन की सर्वोत्तम स्मृतियों में से एक हर सप्ताह  अड्यार पब्लिक लाइब्रेरी जाने की है। कॉलेज में आते आते वे एक हफ्ते में एक किताब तो कम से कम पढ़ ही लिया करते थे। यानि किताबों के माध्यम से वे सिर्फ साक्षर नहीं, शिक्षित भी हो रहे थे और जीवन की परीक्षाओं में उत्तीर्ण होने के लिए तैयार हो रहे थे।

‘‘उनके प्रेरणास्त्रोत”

घेवरचन्द जी के जीवन के इतने बसंत बीत गये, जीवन ने उन्हें कुछ खट्टे कुछ मीठे पल दिए, उनकी यात्रा भी कठिन रास्तों से भरी रही, लेकिन अपने मन में निराशा का एक भी क्षण उन्होंने नहीं आने दिया, सकारात्मक सोच की ऐसी मिसाल कम ही दिखती है की राह में आये हर पत्थर को सिर्फ मील का पत्थर न बनाकर वे सुंदर नक्काशीदार स्मारक बना देते थे और अनूठी बात ये की सब कुछ अपने बल बूते पर । ” निज समाधि में निरत, सदा निज कर्मठता में चूर”! बचपन से ही उन्होंने अपने रास्ते खुद चुने, सर्वश्रेष्ठ राह पर चले , स्वयं की प्रेरणा लेकर प्रतिदिन स्वयं से ही बेहतर होने का प्रण ले जीवन में कुछ कर गुज़रने का जूनून घेवरचन्द जी को प्रगति के ऊँचे रास्तों पर ले गया ।

बचपन से ही पढ़ाई के साथ घेवरचन्द जी का झुकाव लोक कल्याण की तरफ रहा। जहां सब बच्चे मिले हुए जेब खर्च  को खाने पीने इत्यादि में खत्म करते थे, घेवरचन्द जी, जेब खर्च का कुछ हिस्सा छोटी बड़ी मदद ,वं बाकी हिस्सा किताबों में व्यय करते थे।

कर्मयोगी

श्री घेवरचंद कानूंगा ने कभी नौकरी करने के बारे में नहीं सोचा। उनका जन्म एक उद्यमी परिवार में हुआ था और उन्होंने खुद को नौकरी देने वाले के अलावा और कुछ नहीं देखा। वास्तव में, उनका कहना है  कि अधिक रोजगार देने वालों की भारत जैसे देश को जरूरत है। जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने एक उद्यमी बनने का फैसला क्यों किया, तो श्री घेवरचन्द जी कहते हैं कि उन्हें ऐसा लगता है कि वे यही करने के लिए पैदा हुए हैं। वे एक स्वतंत्र विचारक है जो हमेशा दूसरों का जीवन बेहतर करने में सहयोगी रहे है, उनका मानना है कि वे एक उद्यमी होने से अपने भाग्य के निर्माता स्वयं ही बनते है।

कंपनी की बढ़ाई प्रतिष्ठा, उद्यमी बन लोगों को दिया रोजगार

कुछ सीखने की लगन हो तो इंसान विषम परिस्थियों में भी कितने गूढ़ सूत्र सीख लेता है । घेवरचन्द जी कोलकाता में आरटिफीसियल एनोडाइज्ड ज्वैलरी का उत्पादन करते थे। उस वक़्त घेवरचन्द जी ज्वेलरी पर प्लेटिंग की तकनीक पर शोध कर रहे थे । तब वे जर्मन एम्बेसी की लाइब्रेरी में जाकर कलर चढाने के तरीके सीखने के लिए किताबे पढ़ते थे  । जो किताबे एम्बेसी में उपलब्ध नहीं थी ,  उनकी लगन और दिन रात की मेहनत देखकर एम्बेसी वाले स्वयं मंगवाकर उन्हें देते थे। इस तरह पढ़ कर शोध करके घेवरचन्द जी ने प्लेटिंग का यूनिक फार्मूला निकाला  । उनकी बनायीं अंगूठियों में एक “तिरंगे” की अंगूठी बड़ी मशहूर हुई । भारी मांग होने की वजह से जितनी अँगूठिया बन कर आती थी सारी बिक जाती थी , इस प्रकार रोज़ कलकत्ता के आस पास के असंख्य लोगों को रोज़गार मिलता था । उनकी रोज़ी रोटी के प्रणेता घेवर चंद जी इनके लिए ईश्वर से  हो गए ।

मिट्टी की पुकार व एल्कोबेक्स की शुरूआत

५, ७ वर्ष कलकत्ता में काम करने के बाद उन्हें अपनी मिट्टी की याद आने लगी । अपने लोगों के बीच अपनों के लिए कुछ करने की इच्छा से वे राजस्थान लौट आये । तब जोधपुर में भ्रमण के वक़्त राजस्थान के तत्कालीन उद्योग मंत्री से उनका मिलना हुआ । मंत्री जी ने उन्हें कहा की ” घेवर चंद राजस्थान में एक बड़ी इंडस्ट्री की बहुत आवश्यकता है । ज़मीन मै उपलब्ध कराऊंगा , तुम अपने योग्यता से शुरू करो बस ।” और इस तरह – 1964 में ALCOBEX (Aluminium Copper Brass Extrusion) मेटल्स की शुरुआत हुई ।

देश-विदेष में अपना नाम स्थापित करने वाली, अनेकों रोजगार देने वाली यह इण्डस्ट्री आधे दषक तक स्वदेषी उत्पाद बना राजस्थान व देष का गौरव बनी।

सेवा के लिए खुले हाथ, फ़िज़ूल खर्च के लिए बिल्कुल बंद रहते थे।

उनके पिता ने उन्हें मितव्ययता का पाठ पढ़ाया था। ज़रूरत के लिए सब उपलब्ध लेकिन फ़िज़ूल खर्च में ज़रा भी यकीन नहीं करते थे। राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री जैसे लोगों के साथ उठने बैठने वाले घेवरचंद जी कभी 5 सितारा होटल में नहीं रुके। साधारण होटलों में ही निवास करते थे।

वहीं दूसरी ओर यदि उनके दर पर कोई ज़रूरतमंद आ जाता था तो कभी भी खाली हाथ नहीं जाता था। चाहे एल्कोबेक्स के दरवाज़े ही क्यों न हो] अगर कोई नौकरी मांगने आया है तो क्षमता से अधिक कार्मिकों के साथ काम किया लेकिन हर एक को रोजगार दिया। उस वक़्त एक जुमला भी बहुत प्रचलित था, की यदि किसी के शादी के लिए बायो डेटा में एल्कोबेक्स की नौकरी लिखी है तो , अतिरिक्त एवं महत्वपूर्ण उपलब्धि मानकर शादी में आसानी होती थी।

अनेक महत्वपूर्ण पदों की जिम्मेदारी निभाई

अपने स्वयं के विनिर्माण व्यवसाय के अलावा औद्योगिक विकास में अपनी बहुमूल्य भूमिका के सम्मान में, श्री घेवरचंद कानूंगा को औद्योगिक विकास के लिए बहुत प्रतिष्ठित राज्य सलाहकार समिति के स्थायी सदस्य होने का दुर्लभ सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इसके अलावा, श्री घेवर चंद कानूंगा कई वाणिज्यिक और सामाजिक संगठनों से जुड़े हुए हैं।

अध्यक्ष पद –

  • जोधपुर इंडस्ट्रियल एसोसिएशन
  • मुख्यमंत्री द्वारा राजस्थान में उद्योग को बढ़ावा देने के लिए स्थापित हाई पावर कमेटी अध्यक्ष
  • मारवाड़ चैंबर ऑफ कॉमर्स
  • नाकोड़ा पार्श्वनाथ कॉमर्स कॉलेज
  • महावीर पब्लिक स्कूल
  • बादल चंद सुगन कंवर चौरड़िया गर्ल्स स्कूल
  • मारवाड़ अकाल सहायता समिति
  • लगातार दो कार्यकाल तक ओसवाल सिंह सभा के अध्यक्ष

 

  1. JIITO व रोटरी क्लब के फाउंडर मेंम्बर
  2. फिक्की सदस्य
  3. CII सदस्य
  4. राजस्थान सेवा समिति सदस्य
  5. जोधपुर होस्टल मुम्बई ट्रस्टी
  6. राजस्थान हॉस्पिटल अहमदाबाद ट्रस्टी

अकाल राहत कार्य एवं राष्ट्रपति सम्मान

राजस्थान में तब अकाल की मार ज़ोरो से थी। मानव त्रस्त था और पशु प्राण  त्याग रहे थे । पानी और चारा उपलब्ध नहीं हो रहा था ,परिस्थिति सरकार के हाथ से भी निकल रही थी । तब राजस्थान के माननीय मुख्यमंत्री श्री हरिदेव जी जोषी ने घेवर चंद जी को योग्य समझ कर गौ रक्षा का भार सौंपा। “इस विकट अकाल में आपको गौधन की रक्षा करनी हैं। गौ माता के खाने पानी की व्यवस्था करवाइये उन्हें मरने से बचाइए । कल मै बाड़मेर जा रहा हूँ, आप भी आइये मिलकर समाधान खोजते हैं”

यहां उनकी निष्ठा इस वृतांत से जान सकते हैं कि जिस मुकाम पर आज घेवरचन्द जी हैं, वहां पहुंचना कितनी मेहनत भरा सफर है । अगले ही दिन  मुख्यमंत्री जी से मिलने के बाद वे घर भी नहीं गए, चारे पानी का इंतज़ाम करने सीधे पंजाब निकल गए  । घर पर सन्देश भिजवा दिया गया था की गायों की जीवन रक्षा के लिए पंजाब निकल गया हूँ । उन्होनें मारवाड़ अकाल राहत सहायता समिति का गठन व अध्यक्षता की। इस समिति के गठन में वर्तमान मुख्यमंत्री श्री अषोक गहलोत जी ने हर प्रकार का सहयोग दिया और लाखों गायों को मरने से बचाया। दो वर्ष तक घेवरचन्द जी ने पंजाबए हरियाणा, उत्तर प्रदेश से चारे की व्यवस्था की। पष्चिमी राजस्थान में दो साल में रिकॉर्ड 550 पशु षिविर लगवाये। जिसमें से 80 प्रतिषत आज भी गौषाला के रूप में कार्यरत है। उस जमाने में उनके द्वारा करोड़ों रूपए लागत का चारा उपलब्ध करा भीषण अकाल में गौधन की रक्षा की गई।

उनकी इस असाधरण सेवा के लिए भारत के राष्ट्रपति डॉ॰ शंकर दयाल शर्मा ने उन्हे वर्ष 1992 में दिल्ली के राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रीय पुरस्कार से अलंकृत किया।

हमेशा लोगों की मदद के लिए आगे रहे

षिक्षा को उन्होने मानव जीवन का सर्वोत्तम मूल्य माना। जोधपुर में ओसवाल सिंह सभा की विद्यालय सरदार स्कूल के लिए महावीर गेम्स कॉम्पलेक्स की स्थापना कराई। उसी दौर में भगवान महावीर की 2500वीं जन्म शताब्दी वर्ष के उपलक्ष में भगवान महावीर षिक्षण संस्थान की स्थापना की, जो आज महावीर पब्लिक स्कूल एवं बादलचन्द सुगनकंवर चौरड़िया बालिका विद्यालय के रूप में विख्यात है। कलेक्ट्रेट के सामने स्थित भगवान महावीर उद्यान भी घेवरचन्द जी के प्रयासों से स्थापित हो पाया।

सरदार स्कूल शताब्दी समारोहः-

उच्च कोटी की षिक्षा को सदैव ही प्रथम पायदान पर रखने वाले घेवरचन्द जी ने 1995 में ओसवाल सिंह सभा की अध्यक्षता करते हुए सरदार स्कूल के शताब्दी वर्ष को भव्यातिभव्य रूप से मनाया। विभन्न प्रकार के सांस्कृतिक, सामाजिक व शैक्षणिक कार्यक्रम आयोजित करवाये गए। जोधपुर के इतिहास में यह समारोह आज भी याद किया जाता है। क्योंकि तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ॰ शंकर दयाल शर्मा जी इस कार्यक्रम में भाग लेने हेतु ही दो दिन तक जोधपुर में ही ठरहते थे।

सच्ची ख़ुशी पाने का मार्ग

वास्तव में, लोक सेवा की उनकी परिभाषा बहुत ही जागरुक करने वाली है – उनके विचार में लोक सेवा जीवन का उद्देश्य है और जीवन को बेहतर बनाने की प्रक्रिया है। दूसरों को खुशी nsus ls mUgsa स्वयं भी ख़ुशी का अनुभव gksrk gSA उनका कहना है कि लोग अपना सारा जीवन खुशी की तलाश में इधर-उधर भागते हुए बिताते हैं, यह महसूस किए बिना कि सच्ची खुशी का रास्ता दूसरों की मुस्कान में और मदद करने के लिए ईमानदारी से प्रयास करने से मिलता है।

उनके अनुसार खुषी  के कई स्त्रोत है जैसे- किसी को शिक्षित करना, किसी की मदद करना, कुछ ऐसा बनाना जो दूसरों को खुश करे, अपनी खुशी की कुंजी दूसरों को खुश करने में निहित है, यही लोक सेवा का एक सरल मंत्र है। उनकी दृष्टि में यही सामाजिक सुधार का सही अर्थ है और यही एक सबक है जिसे लोगों को सीखने की जरूरत है।

जोधपुर के लिए प्यार और  विजन

व्यवसायिक व सामाजिक प्रतिष्ठा प्रदान करने वाला जोधपुर शहर घेवरचन्द जी के हिवड़े का कोर है। वे इसे भारत का सबसे स्वच्छ शहर बनाने की दिशा में काम करना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि जोधपुर में शैक्षिक सुविधाएं आसमान तक पहुंचे। उनका सपना है कि जोधपुर के बच्चे बड़े सपने देखें। वह ऐसे समय की कल्पना करते हैं जब जोधपुर दुनिया के सबसे बड़े मेहमाननवाज स्थानों में से एक के रूप में जाना जाएगा। सीधे शब्दों में कहें, तो वह चाहते हैं कि यह दुनिया के महान शहरों में से एक हो। आज उनके यही प्रेरणादायक विचार और सोच युवा और भावी पीढ़ी के लिए प्रोत्साहन का काम करते हैं।

सम्मान व अवॉर्डस

घेवरचन्द जी की सामाजिक व व्यवसायिक निष्ठा व उत्कृष्टता को असंख्य सम्मानों से नवाजा गया, जिसमें से कुछ प्रमुख आपको बताते हैं-

  • राष्ट्रपति डॉ॰षंकर दयाल शर्मा द्वारा अकाल सेवा के लिए 1992 में राष्ट्रीय पुरस्कार
  • उप-राष्ट्रपति श्री आर॰वेंकटरमन द्वारा सेल्फ मेड इण्डस्ट्रीयलिस्ट पुरस्कार
  • 1978 में भारत सरकार द्वारा नेषनल अवार्ड फॉर इम्पोर्ट सबस्टिट्यूषन
  • 2003 में केन्द्रीय उद्योग मंत्री श्री अरूण जेटली द्वारा एक्सीलेंस अवार्ड
  • 2006 में केन्द्रीय मंत्री श्री कमलनाथ द्वारा एक्सपोर्ट एक्सीलेंस अवार्ड
  • मुम्बई के भव्य आयोजन में जोधपुर एसोसिएषन रजत समारोह में समाज रत्न पुरस्कार
  • जीतो द्वारा लाईफटाईम अचिवमेंट अवार्ड
  • घेवरचन्द जी का नाम Asian/American Who’s Who के प्रथम संस्करण में था।

Contact G.C.Kanunga